• 1 Project 1
    Suspendisse turpis arcu, dignissim ac laoreet a, condimentum in massa.
  • 2 Project 2
    uisque eget elit quis augue pharetra feugiat.
  • 3 Project 3
    Sed et quam vitae ipsum vulputate varius vitae semper nunc.
  • 4 Project 4
    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit.
| | Comments: (0)
दीवाली में Tata Docomo देगा 3G सेवाएँ


3G सेवा का इन्तेजार अब जल्दी ही ख़त्म होने जा रहा है, Tata Docomo आगामी दिवाली पर 3G का तोहफा लेकर आ रहा है आपके लिए ।वैसे तो BSNL, MTNL जैसी सरकारी कंपनिया कुछ क्षेत्रों में ये सुविधा उपलब्ध करा चुकी हैं पर Tata Docomo पहली निजी कंपनी है जो आपको 3G सेवाएँ उपलब्ध कराने जा रही है ।टाटा टेलीसर्विसेस लिमिटेड (TTSL) ने थ्रीजी स्पेक्ट्रम की नीलामी में 9 टेलिकॉम सर्कल के अधिकार प्राप्त किये है और टाटा डोकोमो इन 9 सर्कल
1. महाराष्ट्र एवं गोवा,
2. पंजाब
3. हरियाणा
4. उत्तरप्रदेश (पश्चिम )
5. राजस्थान
6. गुजरात
7. कर्नाटक
8. केरल
9. मध्यप्रदेश -छत्तीसगढ़ में 3G सेवाएँ शुरू करने जा रही है ।तो अब जल्दी ही विडियो कॉलिंग, मोबाइल टीवी, और तेज गति के इंटरनेट के उपयोग के लिए तैयार रहिये ।
| | Comments: (0)
एक वेबसाइट जो मोबाइल के चुनाव में आपकी मदद करेगी


अगर आप नया मोबाइल फोन खरीदने की सोच रहे है और दुविधा में हैं की कौन सा मोबाइल खरीदा जाए तो ये वेबसाइट आपकी थोड़ी मदद कर सकती है ।इस वेबसाइट में आप दो मोबाइल फोन की तुलना करके जान सकते हैं की कौन सा बेहतर है ।आपको बस इसमें मोबाइल फ़ोन के मॉडल नंबर भरने है जैसे Nokia C5 और Nokia 6270 फिर ये वेबसाइट इनके फीचर्स की तुलना करके आपको एक विवरण उपलब्ध कराएगी की कौन सा फ़ोन बेहतर है और क्यूँ ।

| | Comments: (0)
अब इंटरनेट के जरिये टीवी देखना होगा मुमकिन


सर्च इंजन की दुनिया का महारथी गूगल जल्द ही एक ऐसा साफ्टवेयर विकसित करने जा रहा है जिससे इंटरनेट के जरिये टेलीविजन देखना आसान हो सकेगा। इस नए सॉफ्टवेयर के विकास में सोनी कॉर्प, इंटेल कॉर्प और लॉजीटेक इंटरनेशनल साउथ अफ्रीका समेत कई कंपनियां रुचि दिखा रही हैं।


कैलिफोर्निया के माउंटेन व्यू में स्थित गूगल फिलहाल इस तकनीक के विकास के लिए तीन हजार से अधिक डेवलपर्स से संपर्क में हैं जो 19 से 20 मई तक होने वाले इसके कांफ्रेंस में हिस्सा लेंगे।हालांकि इस मामले से जुडे एक जानकार ने बताया कि कंपनी इस तकनीक के और भी विकसित हो जाने तक इस पर विचार विमर्श में देरी कर सकती है। गौरतलब है कि गूगल अपनी नई तकनीकों से डेवलपर्स को रुबरु कराने के लिए साल में एक बार ऐसे कांफ्रेंस का आयोजन करता हैा गूगल, एप्पल इंक और अन्य कंपनियों ने जिस तरह स्मार्टफोन के लिए डेवलपर्स को अपनी ओर खींचा था उसी तरह गूगल के टीवी प्लेटफार्म के लिए भी डेवलपर्स की होड शुरु होने की उम्मीद हैा गूगल की नई तकनीक से शुरु की जाने वाली यह सेवा यूजर्स को इंटरनेट से सभी तरह की प्रोग्रामिंग तक पहुंच आसान कर देगा ा पिछले साल इस सिलसिले में शुरु हुआ टेस्ट कंपनी के बहुत कम कर्मचारियों और उनके परिवारों तक ही सीमित हैा

| | Comments: (0)
फुल हुआ इंटरनेट आईपी एड्रेस बुक



लंदन. वेबसाइटों के लिए सुरक्षित आईपी एड्रेस बुक 94 फीसदी भर चुका है। इसके चलते जल्द ही एक नए इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्जन की जरूरत पड़ेगी। फिलहाल इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्जन (आईपीवी) 4 में नए आईपी एड्रेस के लिए 32 बिट के नंबर सिस्टम का प्रयोग होता है।


इससे चार अरब कॉम्बिनेशंस तैयार किए जा सकते हैं। इसके भर जाने पर तकनीशियनों को आईपीवी 6 वर्जन लाना होगा। यह 126 बिट का होगा, जिससे कॉम्बिनेशंस की संख्या भी बढ़ जाएगी। अमेरिकन रजिस्ट्री फॉर इंटरनेट नंबर्स के मुख्य कार्यकारी जॉन करेन के अनुसार, नए आईपीवी 6 को अपनाने के लिए दुनियाभर के देशों को राजी करना एक बड़ी चुनौती है।
| | Comments: (0)
टीवी पर इंटरनेट देखना हुआ आसान



बेंगलूर की एक कंपनी ने एक ऐसा सेट टॉप बॉक्स तैयार किया है जिसके जरिये आप इंटरनेट पर मौजूद वीडियो अपने ड्राइंग रुम में लगे टीवी के बडे स्क्रीन पर आसानी से देख सकेंगे। व्यू नाउ नाम से शुरु यह इंटरनेट टीवी प्लेटफार्म लोगों को अपने कंप्यूटर के छोटे स्क्रीन पर देखने के झंझट से मुक्ति दिलाएगा और इस तरह यह इंटरनेट वीडियो और टीवी के बीच की खाई को भी खत्म करेगा।


इस सेट टॉप बॉक्स को बनाने वाली कंपनी वेरिस्मो नेटवर्क्‍स के सह संस्थापक सतीश मुगुलवल्ली कहते हैं कि व्यू नाउ नए जमाने के मल्टीमीडिया इंटरनेट को टीवी जैसे एंटरटेनमेंट सिस्टम को एक साथ जोडता है। यह इंटरनेट को सीधे टीवी पर दिखाता है जिससे दर्शक बखूबी परिचित होते हैं। भारत में यह गजट इसी महीने लॉंच होने वाला है और इसकी कीमत पांच से छह हजार रुपये होगी।

| | Comments: (1)
राईट क्लिक मेनू में फाइल और फोल्डर



अब अपने राईट क्लिक को बनाइये और भी बेहतर अब आप राईट क्लिक कर आपने ताजे प्रयोग की गयी फाइल्स और फोल्डर तक पहुँच सकते हैं ।इसमें आप ये भी निर्धारित कर सकते है की मेनू में कितनी फाइल और फोल्डर की सूची दिखाई देगी जैसे 10 या 100 ।एक छोटा मुफ्त औजार सिर्फ 900 केबी आकार में ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

दूसरी सीधी डाउनलोड लिंक यहाँ है ।

| | Comments: (0)
cd डीवीडी या पेन ड्राइव में लगायें ऑटो रन सुविधा


अपने cd डीवीडी या पेन ड्राइव को बनाये ख़ुद चलने वाला इस आसान मुफ्त और छोटे५०० के बी के औजार से ।


यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करें ।


पोर्टेबल डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

| | Comments: (0)
अपने सीडी को कॉपी होने से रोकिये

आपकी सीडी को कॉपी होने से बचाने वाला औजार । इस टूल के उपयोग से आप अपनी ISO फाइल से कॉपी प्रोटेक्ट सीडी बना पाएंगे जिसे कॉपी नहीं किया जा सकेगा ।अपनी इसो फाइल चुनिए और एरर मैसेज लगाइए और अपनी सीडी बर्न कर लीजिये नयी बनी सीडी को कॉपी नहीं किया जा सकेगा ऐसा करने पर एरर दिखाई देगा ।वैसे इसे कॉपी किया जा सकता है पर उसके लिए कंप्यूटर के अच्छे जानकार की जरुरत होगी ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

ये ट्रायल वर्जन है

| | Comments: (0)
हिंदी में सीखिए कंप्यूटर की तकनीके

"हिंदीभाषियों के लिये एक समर्पित वेबसाइट "
इस वाक्य के साथ हिंदी में कंप्यूटर के कुछ विषयों पर अच्छी जानकारी देने वाली वेबसाइट


शायद सबसे अच्छी तकनीकी वेबसाइट भले ना हो पर आप और मुझ जैसे अल्पज्ञानियों के लिए उपयोगी जरूर है ।


click here to open hindi site

| | Comments: (0)
XP के अंदर Linux या कोई और OS कैसे डालें? Virtual PC in your XP
कैसा रहेगा अगर Microsoft XP के अंगर एक और ओपरेटींग सिस्टम डाल के चलाएं या Ubuntu, Mac आदी Operating system डाल के चलाएं? मजेदार है ना?कभी एसा देखे हैं?


ईसके कुछ फायदे
आप जहां पर भी उसको रोक दें वो वहीं वैसी सथीती मे सेव हो जाता है और बाद मे जब उसको खोलेंगे तो उसी स्थीति मे मिलेगा।
अगर आपको कोई और ओपरेटींग सिस्टम चलाना हो तो आपको कंप्युटर फिर से चालु या बंद करने की जरूरत नही है।
किसी को सिखाना हो की कैसे फार्मेट मारते हैं
कोई भी प्रोग्राम वैसे ही मिले जैसे पिछली बाद छोडे थे
XP के साथ साथ कोई और भी OS चलाना हो जैसे उबंटू, आदी..
कोई भी साफ्टवेयर को ईसकी मदद से एक कंप्युटर से दुसरे कंप्युटर मे डाल सकते हैं। XP के अंदर Virtual PC कैसे डालें?पहले
यहां क्लिक कर(31MB) के Virtual PC डाउन्लोड करें, ईन्सटाल करने के बाद ईसको खोलें।ईसको खोलने के बाद दाई तरफ "New..." बटन को दबाएं

अब Next पर दबाएं, फिर New Virtual Machine Wizard मे Use Default Setting वाला ओपसन चुनें और Next दबाएं, फिर Finish बटन को दबाएं।अब Virtual PC को खोलने पर आपके द्वारा बनाया ओपसन दिखेगा उसपर क्लिक करें और फिर सेटींगस पर क्लिक करें।

अब सेटींग मे जाने के बाद Memory पर क्लिक करें और कम से कम 128MB सेट कर दें, फिर Hard Disk 1, Hard Disk2 मे से किसी भी एक पर क्लिक करें।Virtual Hard Disk Wizard पर क्लिक करें >> Next फिर Next >> फिर Next >> अब Browse पर क्लिक करें और जहां भी आपको Virtual हार्ड डिस्क बनाना हो वहां जाएं और Save कर दें और अब ओको दबा कर बाहर आ जाएं।अब आपने जो Virtual PC बनाया था उसको सलेक्ट कर के Start पर क्लिक कर दें।
अगर कोई एरर आए और जल्दी से बन्द हो जाए तो वापस सेटींग मे जा कर Memory को बढा कर देखें, अगर फिर भी स्टार्ट नही होता है तो फिर मेमोरी को आधा कर दें जैसे 80MB और फिर स्टार्ट करें।अब आपको जो भी ओपरेटींग सि्स्टम डालना हो जैसे उबंटु आदी कोई भी OS तो उसका बुटेबल सिडी अपने कंप्युटर मे डालें और जो DOS जैसा विंडो खुला है उसके निचे CD का आईकन होगा, उसपर राईट क्लिक करने के बाद Control Physical CD/DVD पर क्लिक करें और फिर उपर मेन्यु मे Action मे जा क Reset पर क्लिक कर के अपना OS ईन्सटाल कर लें।अब आप कभी भी उस डाले हुवे OS को चला कसते हैं।अगर आप बंद करना चाहते हैं और सारे काम को उसी स्टेट पर सेव करना चाहते हैं तो Turn off के ओपसन के जगह पर Save Stats को सलेक्ट कर दें और ओके कर दें।
| | Comments: (0)

क्या आप भी regsvr.exe वायरस से परेशान है ?

पिछले कई दिनों से regsvr।exe नामक एक वायरस ने कंप्युटर जी की गति धीमी कर दुखी कर रखा था जिसे हटाने के लिए एक के बाद एक कई एंटी वायरस काम लिए लेकिन नतीजा वही ढ़ाक के तीन पात नोर्टन और McAfee एंटी वायरस भी इस वायरस को हटाना तो दूर पकड़ ही नही सके यह वायरस कंप्युटर की क्षमता का ७० से ८० % तक या कभी कभी १००% तक इस्तेमाल करना शुरू कर देता है जिससे अन्य कार्य करने पर कंप्युटर हेंग हो जाता है यही नही १००% क्षमता का इस्तेमाल होने पर कंप्युटर का प्रोसेसर गर्म होकर ख़राब होने की भी आशंका बन जाती है

पहले पहल तो समझ ही नही आया कि अलग-अलग एंटी-वायरस सोफ्टवेयर से कंप्युटर को क्लीन करने के बाद भी कंप्युटर धीमे क्यो चल रहा है जब टास्क मेनेजर खोल कर देखा तब पता चला कि कंप्युटर जी की क्षमता का १०० % इस्तेमाल हो रहा है और टास्क मेनेजर की processes में देखने पर पाया कि regsvr।exe अप्लिकेशन सबसे ज्यादा क्षमता का इस्तेमाल कर रही है जैसे ही इस फाइल का प्रोसेस को बंद किया कंप्युटर जी अपने आप सही काम करने लग गए लेकिन कुछ ही देर बाद ये वायरस फ़िर सक्रीय हो कंप्युटर की गति धीमी कर देता है पहले तो यह समझ ही नही आया कि ये कोई वायरस ही है या विण्डो की कोई अप्लेकाशन फाइल

आख़िर गूगल बाबा से पूछताछ से पता चला कि ये वायरस ही है और पेन ड्राइव के द्वारा आने वाला यह वायरस आसानी से जाने वाला नही है अतः गूगल बाबा की झोली से इस वायरस को हटाने के कुछ नुस्खे ढूंढे और यहाँ लिखे एक नुस्खे की सहायता से इस वायरस को निकालने का अभियान शुरू किया सारे स्टेप पार करने के बाद आखिरी स्टेप में सभी ।exe फाइल डिलीट करने में डर लगा कि कही कोई काम की फाइल डिलीट ना हो जाए अतः समस्या फ़िर ज्यों की त्यों

आख़िर फ़िर गूगल बाबा की सहायता से इसे हटाने के regsvr.exe रिमूवल टूल ढूंढे और कई एंटी वायरस रूपी हथियार इस्तेमाल करने के बाद भी यह वायरस हटने का नाम ही नही ले रहा था लेकिन आखिरी कोशिश के तहत यहाँ से एक औजार मिला जिसकी सहायता से इस regsvr.exe नामक वायरस को हटाने में कामयाबी मिली regsvr.exe से तो निजात मिल गई लेकिन अब जिस औजार का इस्तेमाल किया उसने अपने रंग दिखाने शुरू कर दिए अतः उसे भी बाहर का रास्ता दिखाना पड़ा मेरी पिछली पोस्ट में तरुण ने अपनी टिप्पणी में सही कहा था कि नेट पर फ्री में मिलने वाली चीजे सोच समझ कर ही इस्तेमाल करनी चाहिए फ्री में मिलने वाले सभी सोफ्टवेयर अच्छे नही होते

अब कंप्युटर जी की सुरक्षा के लिए एक अग्नि रेखा (Firewall) खींचने के आलावा McAfee को तैनात किया है देखते है ये व्यवस्था कब तक कंप्युटर जी की वायरस से सुरक्षा कर पाती है वैसे मेरे विचार से इन सब झंझट से छुटकारा पाने का एक ही उपाय है लिनक्स का इस्तेमाल जिसमे कम से कम वायरस का तो कोई झंझट नही हालाँकि मैंने तो उबुन्टू लिनक्स इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है लेकिन बच्चे अभी फोटोशॉप,ड्रीमवीवर व कोरल ड्रो के चक्कर में विण्डो का मोह नही त्याग पा रहे है

| | Comments: (0)

पोस्ट के आखिर में अपने हस्ताक्षर लगाए

अपनी हर एक पोस्ट के आखिर में यदि आप अपने हस्ताक्षर लगाना चाहते है तो लगा सकते है इसके लिए आपको अपने हस्ताक्षरों के चित्र को किसी चित्र होस्टिंग वेबसाइट पर अपलोड करना होगा उसके बाद ब्लोगर में थोडी सी सेटिंग करनी होगी जो निम्न है |
१- सबसे पहले अपने हस्ताक्षरों का चित्र कंप्यूटर में सेव करले | हस्ताक्षरों का चित्र बनाने के लिए आप अपने हस्ताक्षरों को स्कैन करने के अलावा पैंट या फोटो शॉप आदि सोफ्टवेयर की सहायता ले सकते है या http://123pimpin.com या http://mylivesignature.com पर ऑनलाइन भी बना सकते है |
२- हस्ताक्षरों का चित्र लेने के बाद उसे किसी चित्र होस्टिंग वेबसाइट जैसे http://flickr.com http://photobucket.com http://picasaweb.google.com पर अपलोड करदे व वहां से हस्ताक्षर चित्र का HTML code प्राप्त करले |


| | Comments: (0)
डेस्कटॉप से माउस की हो जाएगी विदाई
कंप्यूटर की दुनिया में एक नई क्रांति का शुरुआत हो चुकी हौ इस वजह से कुछ समय बाद आपका प्यारा ‘माउस’ आपके कंप्यूटर का साथ हमेशा के लिए छोड़ देगा। मंगलवार को एप्पल कंपनी ने वॉशिंगटन में एक टचपैड पेश किया जिसे मैजिक ट्रेक पैड कहते हैं।यह टचपेड महज इशआरों से चलता है। इसलके लिए किसी तरह की टाइपिंग की जरुरत नहीं है। अमेरिका में इसकी कीमत है 69 डॉलर (3217 रुपए)। यह बैटरी से चलता है। यह नोटपैड की तरह दिखाई देता है और ग्लास तथा अल्यूमिनियम का बना हुआ है।इसकी खासियत यह है कि आप 33 फुट दुर रहकर भी इशारों से यानी उंगलियां घुमाकर आसानी से क्लिक कर सकते हैं। यह एप्पल के डेस्कटॉप से ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी से जुड़ा होता है।हालांकि भारत में इस तकनीक को आने में थोड़ा... टाइम lug सकता है
| | Comments: (0)
अब एक ही ब्राउजर में प्रयोग करें कई जीमेल अकाउंट अब आप अपने एक से ज्यादा जीमेल अकाउंट का प्रयोग एक ही ब्राउजर में कर पायेंगे जीमेल कि एक और नयी सुविधा ।इस सुविधा के लिए आपको अपने गूगल अकाउंट कि सेटिंग में थोड़े बदलाव करने पड़ेंगे । सबसे पहले तो आप गूगल अकाउंट पेज पर जाएँ और अपने अकाउंट से लोगिन करें ।

अब ऊपर दिए चित्र की तरह Multiple Sign In के सामने Edit लिंक पर क्लिक करें ।नया पेज खुलेगा कुछ इस तरह


अब इस पेज में दिए गए चित्र की तरह ON विकल्प को चुन लें आप अपनी इच्छानुसार इसी विकल्प में से अतिरिक्त सुविधाओं का भी चुनाव कर सकते हैं । अब Save बटन पर क्लिक कर अपनी नयी सेटिंग सुरक्षित कर लीजिये ।अबसे जब भी आप एक जीमेल अकाउंट प्रयोग कर रहे हो और नए अकाउंट का प्रयोग करना चाहें तो ऊपर अपने अकाउंट के नाम के बाद दिए तिकोने लिंक पर क्लिक करें

कुछ इस तरह और इसमें से Sign In To Another Account विकल्प का चयन कर और एक अकाउंट का प्रयोग करें ।इस सुविधा को आये कुछ दिन हो गए है पर भारत में थोड़ी देर से लागू किया गया है ।
| | Comments: (0)
वेबसाइट कंट्रोल पेनल में कहाँ कैसे अपलोड करें ?
वेब साईट होस्टिंग सेवा प्रदाताओं द्वारा कई तरह के कंट्रोल पेनल उपलब्ध करवाए जाते है उन्ही में से सबसे ज्यादा लोकप्रिय सी-पेनल में वेब साईट कहाँ और कैसे अपलोड की जाये इसी का तरीका


१ - कोई भी वेब साईट सी-पेनल के फाइल मेनेजर में Public_html फोल्डर में अपलोड की जाती है जिसे हम सीधे फाइल मेनेजर में उपलब्ध अपलोड सुविधा से अपलोड कर सकते है इसके लिए अ- सबसे पहले हमें अपने वेब साईट फोल्डर को जिप फाइल में बदलना होगा ब- इसके बाद इस जिप फाइल को अपलोड कर public_html में अपलोड करें
स- इस जिप फाइल को public_html फोल्डर में Extract करदें



२ - सी-पेनल में वेब साईट अपलोड करने का सबसे बढ़िया व मुफ्त मिलने वाला औजार है filezila जिसकी सहायता से आप अपनी वेब साईट अपने कंप्यूटर से सर्वर पर सी-पेनल में आसानी से अपलोड कर सकते है filezila आप यहाँ चटका लगाकर डाउनलोड कर सकते है




filezila के माध्यम से अपलोड करते समय भी अपनी वेब साईट public_html फोल्डर में ही अपलोड करें filezila का इस्तेमाल करने के बारे में ज्यादा जानकारी आप यहाँ से ले सकते है
| | Comments: (0)
स्कैन्ड डॉक्युमेंट से टेक्स्ट निकालने का औजार



एक ऐसा औजार जिसमे किस डोक्युमेंट को एडिट करने के लिए पूरा पेज फिर से टाइप करने कि जरुरत नहीं । यही नहीं अब आप किसी किताब या चित्र के शब्द टेक्स्ट फाइल में या फिर माइक्रोसॉफ्ट वर्ड फाइल में बदल सके हैं ।

इसमें आप सिर्फ स्कैन्ड डॉक्युमेंट ही नहीं पीडीऍफ़ फाइल्स के टेक्स्ट भी प्राप्त कर सकते हैं ।

ये टूल हिंदी भाषा में कार्य नहीं करता है

उपयोग में आसान सिर्फ 156 केबी का छोटा मुफ्त औजार ।


इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें

इस सॉफ्टवेयर में अतिरिक्त भाषाओ को जोड़ने आदि कि अधिक जानकारी इसकी वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है ।

आपसे क्षमा चाहूँगा इसके बारें में काफी समय पहले से जानकारी थी पर आपको देर से उपलब्ध करा पाया ।
| | Comments: (0)
आपके कंप्यूटर के लिए एड्रेस बुक


आपके कंप्यूटर के लिए उपयोगी एड्रेस बुक जिसमे आप सभी जरुरी जानकारियां सुरक्षित रख सकते है ।
इसमें आप एक या सभी विवरणों को छाप भी सकते हैं ।

ये अधिक उपयोगी इसलिए है कि इसमें जमा विवरण को CSV फाइल के रूप में Import या Export करने की सुविधा है अभी ज्यादातर मोबाइल फ़ोन CSV फॉर्मेट को सपोर्ट करते है इससे आप मोबाइल के नंबर कंप्यूटर पर सुरक्षित कर सकेंगे और जरुरत पड़ने पर सभी को छाप भी सकेंगे ऐसे ही कंप्यूटर के एड्रेस बुक का प्रयोग मोबाइल फ़ोन पर भी कर सकेंगे ।

एक उपयोगी छोटा मुफ्त औजार सिर्फ 1 एमबी आकार में ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें

दूसरी डाउनलोड लिंक यहाँ है



इस औजार को पोर्टेबल रूप में डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें

दूसरी डाउनलोड लिंक यहाँ है
| | Comments: (0)
अपने ब्लॉग/वेबसाइट को जोड़ें सभी सर्च इन्जंस से


अपने ब्लॉग या वेबसाइट को अधिक से अधिक पाठको तक पहुँचाने के लिए उनका पता सर्च इंजन वेबसाइट में जोड़ना एक सबसे उपयोगी उपाय है ताकि आपका ब्लॉग/वेबसाइट का पता या उसके पोस्ट सर्च इंजन्स के द्वारा ढूंढें जा सकें ।

पर एक एक करके हर सर्च इंजन में अपनी वेबसाइट को जोड़ना मुश्किल काम है पर ये अब बहुत आसान हो गया है इस मुफ्त टूल से जो आपके ब्लॉग या वेबसाइट को 100 से अधिक सर्च इंजन्स जिनमे Google, Yahoo, Bing आदि भी शामिल है इनसे जोड़ देता है ।

आपको बस इसमें एक मुफ्त अकाउंट बनाकर अपने ब्लॉग/वेबसाइट का पता इसमें लगाना है और 5 मिनट में आपकी साईट प्रमुख सर्च इंजन्स से जुड़ जायेगी ।

सिर्फ 480 केबी आकार का मुफ्त औजार ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें
| | Comments: (0)
अब मचायें किसी भी साईट मे तोड़ फोड़
अक्सर हम इन्टरनेट पर कुछ ऎसी साइटों से मुलाक़ात कर बैठते हैं जो कि विज्ञापनो से भरी रहती हैं और कंटेंट के नाम पर कुछ खास नही होता है। तो पेश है ऎसी साइटों के ऊपर अपना ग़ुस्सा निकालने का तरीका। नेट डिजास्टर एक ऎसी ही साईट है। इस साईट को खोलें और किसी बोरिंग साईट का नाम डाल दें । और अब आप अंडे गोबर फेंकने को तैयार हैं। इसमे आप टमाटर , बंदूक , उड़न तश्तरी आदि के माध्यम से किसी भी साईट के ऊपर अपना ग़ुस्सा निकाल सकते हैं।ये देखिए एक स्क्रीन शॉट:




नेट डिजास्टर का पता है :http://www.netdisaster.com/
| | Comments: (0)
कई आपरेटिंग सिस्टम एक साथ एक कम्प्यूटर मे वो भी बिना पार्टीशन किये
हममे से ज्यादातर लोग विन्डोज़ का इस्तेमाल करते हैं । कभी लिनक्स का स्वाद चखने की ईच्छा हुई तो लाइव सी डी चला लेते हैं। इंस्टाल करने की ईच्छा हुई तो अलग से पार्टीशन बना के इंस्टाल भी कर देते हैं । और अगर आपको फिर कोई नया लिनक्स डालना हुआ तो फिर वही formatting करने वाला झंझट । वैसे भी हार्ड डिस्क को ज्यादा फार्मेट नही करना चाहिऐ।

तो फिर किया क्या जाये। आप किसी भी अन्य आपरेटिंग सिस्टम को वर्चुअल मशीन मे इंस्टाल करके उसका आनंद ले सकते हैं ।

वर्चुअल मशीन क्या है ?
ये एक ऐसा साफ़्टवेयर है जो कि आपके कंप्यूटर के अंदर चलकर आपको एक या एक से अधिक वर्चुअल कंप्यूटर का निर्माण करता है । हर वर्चुअल कंप्यूटर अपने आप मे एक सम्पूर्ण मशीन होता है जिसमे वर्चुअल हार्ड ड्राइव होती है। आपके होस्ट आपरेटिंग सिस्टम मे ये हार्ड ड्राइव एक फ़ाइल के रुप मे दिखाई देती है। जिसे आप जब चाहे मिटा सकते हैं ।वर्चुअल मशीन को चलाने के लिए कम से कम ५१२ एम् बी रैम हो तो बेहतर है क्यूंकि आपको अपने एक वर्चुअल कम्प्यूटर को चलाने के लिए उसे रैम एलाकेट करनी होती है।

microsoft वर्चुअल पी सी के नाम से वर्चुअल मशीन फ्री मे डाउनलोड करने की सुविधा देती है । इसके अलावा वर्चुअल बॉक्स से भी ये काम सुविधाजनक रुप से किया जा सकता है।मैंने mandriva linux वर्चुअल बाक्स मे इंस्टाल किया है ये देखिए स्क्रीन शॉट:




वर्चुअल मशीन के उपयोग :

१) आपके पास एक ऐसा साफ़्टवेयर है जो विन्डोज़ के पुराने versions मे चल जाता था पर विन्डोज़ एक्स पी मे नही चल पा रहा है तो आप वर्चुअल मशीन मे पुराना आपरेटिंग सिस्टम डालकर उसमे वो साफ़्टवेयर चला सकते हैं।

२) linux को ट्राई करने के लिए वर्चुअल मशीन बेस्ट है।

३) नौसिखिये linux को इसके द्वारा सीख सकते हैं।ध्यान रखें :एक बार आपरेटिंग सिस्टम इंस्टाल हो जाने के बाद उसमे एंटी वायरस इंस्टाल जरूर कर लें।अगर आप Microsoft Virtual PC का उपयोग कर रहे हैं और विन्डोज़ को उसमे इंस्टाल किया है तो वर्चुअल पी सी एडीशन जरूर इंस्टाल कर लें। इसके द्वारा आप गेस्ट और होस्ट आपरेटिंग सिस्टम मे फाइलों का आदान प्रदान कर सकते हैं। हालांकि वर्चुअल पी सी लीनक्स मे ये सुविधा नही देता है।

वर्चुअल बाक्स डाउनलोड यहाँ से करें

वर्चुअल पी सी डाउनलोड यहाँ से करें

| | Comments: (0)

कई बार होता है कि हम डिस्क इमेज डाउनलोड करते हैं जो कि नीरो के एन आर जी फ़ार्मेट में होती हैं. आज हम इसे iso फ़ार्मेट में बदलना जानेंगे.

एक छोटी सी यूटिलिटी है nrg2iso . इसे आप यहां से डाउनलोड कर सकते हैं:

यह रार फ़ार्मेट में है अत: इसे पहले एक्स्ट्रैक्ट करेंगे. फ़िर रन करेंगे.


इंटरफ़ेस में कुछ बताने की जरूरत नही. अपनी एन आर जी फ़ाइल का पता और जहां आपको आई एस ओ सुरक्षित करना है उसका पता दीजिये और हो गया.

| | Comments: (0)
आपके पेन ड्राइव के लिए ऑफिस प्रोग्राम्स का पैक

एक छोटा पोर्टेबल प्रोग्राम जिसे आप अपने पेन ड्राइव या कंप्यूटर पर अपने ऑफिस से जुड़े कामों के लिए प्रयोग कर सकते हैं । चाहे वो टेक्स्ट एडिटिंग हो जिप फाइल बनाना हो या पीडीऍफ़ फाइल बनाना ।इस टूल के प्रयोग से आप



एक छोटा पोर्टेबल प्रोग्राम जिसे आप अपने पेन ड्राइव या कंप्यूटर पर अपने ऑफिस से जुड़े कामों के लिए प्रयोग कर सकते हैं । चाहे वो टेक्स्ट एडिटिंग हो जिप फाइल बनाना हो या पीडीऍफ़ फाइल बनाना ।इस टूल के प्रयोग से आप
• Database Creation – with CSVed
• Data Encryption – with DScrypt
• Email Client Software – with NPopUK
• File Compression – with 100 Zipper
• File Sharing – with HFS
• File Transfer – with FTP Wanderer
• Flowchart Creation – with EVE Vector Editor
• MSN Messenger Client – with PixaMSN
• Tree-Style Outliner Software – with Mempad
• PDF Creation – with PDF Producer
• Password Recovery – with XPass
• Secure Deletion – with DSdel
• Spreadsheet Creation – with Spread32
• Text Editing – with TedNotepad
• Word Processing – with Kpad
• Program Launching – with Qsel

इस तरह के कार्य कर सकते हैं वो भी बिना कोई प्रोग्राम इन्स्टाल किये इस छोटे सिर्फ ३ एमबी के मुफ्त टूल से ।


| | Comments: (0)
पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन में लगायें mp3


एक छोटा सा एड ऑन को आपके पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन या फाइल में mp3 भी लगाकर उसे और बेहतर बनाने कि सुविधा देता है ।प्रयोग में आसान जैसा कि ऊपर चित्र में दिखाया गया है बस कुछ कि क्लिक्स से आप अपने पॉवर पॉइंट फाइल में अपनी पसंद की mp3 जोड़ सकते हैं ।सिर्फ 1.1 एमबी आकार का मुफ्त उपयोगी औजार ।


इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

दूसरी सीधी डाउनलोड लिंक ।

तीसरी सीधी डाउनलोड लिंक ।

| | Comments: (4)
ये कहा का नंबर है?इस नंबर की गाड़ी कौन सी शहर की है?ये कहा का पिन कोड है? अब इन सरे सवालो का जवाब है इस वेबसाइट के पास वो भी मुफ्त
अगर आप किसी मोबाइल नंबर या किसी गाड़ी के नंबर से उसकी इसतिथि का पता लगाना चाहते है या किसी पिन कोड या STD कोड के बारे में पता करना चाहते है की ये किस जगह का है ,तो ये सारी जानकारी आप को indiatrace.com नाम की वेबसाइट पर मिल जायेगी यहाँ आप किसी के IP एड्रेस से उसका लोकेसन भी जान सकते है









वेबसाइट का नाम----http://www.indiatrace.com/
| | Comments: (0)

इन्टरनेट एक्स्प्लोरर को खोलते ही सबसे ऊपर खुले हुए पेज का नाम " internet explorer " ही लिखा होता है ! इसकी जगह अपना नाम डालना हो तो ?


हमेशा की तरह रजिस्ट्री एडिटर खोलिए ( start>run>regedit.exe) -इस एंट्री पर जाइये- HKEY_CURRENT_USER\Software\Microsoft\Internet Explorer\Main" Main " नामक फोल्डर को क्लिक करते ही दायीं तरफ काफी सारी रजिस्ट्री वैल्यू दिखने लगेंगी / इनमे से " windo title " नामक वैल्यू को खोजें ( आशा है आपको नहीं मिलेगी, क्यूंकि वहाँ होती भी नहीं है,

विंडोस के कुछ पुराने वर्जन में इसका प्रयोग किया जाता था किन्तु अब नहीं ) तो सीधे अब जाएँ रजिस्ट्री एडिटर के ऊपर के मेनू में व " edit " विकल्प में से चुने " new " और new में से " string value " को चुनें/अब आपको फिर से दायीं तरफ एक बढ़ी हुई रजिस्ट्री वल्यु मिलेगी जिसका नाम रखें " Window Title " व इस पर डबल क्लिक करें और प्राप्त विंडो में टाइप कर दें अपना मनचाहा शब्द, जिसे आप इन्टरनेट एक्स्प्लोरर के टाइटल में दिखाना चाहते हैं

अब लोग ऑफ करके लोग ऑन करें जिससे किये हुए परिवर्तन दिख सकें /अब तक यदि ध्यान से सरे लेख पढ़े होंगे तो आप जन गए होंगे की क्यूंकि यह परिवर्तन " current user " नामक फोल्डर में किया है इसलिए यह सिर्फ आपके अकाउंट में ही काम करेगा /

| | Comments: (0)

हम लोग के कंप्यूटर में वायरस के कारण या गलत सॉफ्टवेयर डालने के कारण कई बार विंडोज xp की फाइल्स corrupt हो जाती है,और फिर कंप्यूटर में कई तरह की परेशानिया आने लगती है,कई प्रोग्राम काम करना बंद कर देते हैंसिस्टम कई तरह के errors बताने लगता है,फिर हमें नई विंडो इंस्टोल करनी पड़ती है,और सभी प्रोग्राम दुबारा इंस्टोल करने पड़ते हैंयह काम बहुत समय लेने वाला,थका देने वाला और झंझट वाला भी





लेकिन मैं आपको एक ऐसा तरीका बताता हूँ जिससे आप 10 मिनट में आपके सिस्टम की सभी corrupted फाइल्स और errors को ठीक कर सकते हैंसबसे पहले आप start पर क्लिक कीजिये फिर run में जाइए वहां टाइप करें sfc /scannow यह ध्यान रहेकि sfc और / [स्लेश] के बीच में स्पेस है.फिर OK कर दीजिये, OK करते ही एक विंडो खुलेगी जिसमें आपको विंडोज XP की CD डालने को कहा जाएगा, CD डालते ही स्कैनिंग चालु हो जाएगी जो 5 से 10 मिनट तक चलेगी.यह आपकी सभी फाइल्स को रिपेयर करेगा और सभी errors दूर कर देगा.स्केन फिनिश होने के बाद एक बार कंप्यूटर को रिस्टार्ट कर दे
| | Comments: (0)
अपने फोल्डर को खुबसूरत बनाये एक छोटे से टूल से...
अपने फोल्डर को खुबसूरत बनाये एक छोटे से टूल से....
सिर्फ 986 kb का छोटा सा सॉफ्टवेर.......

| | Comments: (0)
आप के कंप्यूटर में अलार्म लगाने के लिए एक लाजवाब सॉफ्टवेर
अपने कंप्यूटर में अब आप अलार्म लगा सकते है अपने किसी भी इवेंट के लिए



सिर्फ 234 Kb का छोटा सा सॉफ्टवेर ,इंस्टाल करने की भी ज़रूरत नहीं

सॉफ्टवेर डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करे

| | Comments: (0)

जिस से आप का कंप्यूटर हमेशा चका-चक रहेगा/


किसी प्रोग्राम के कै्रश होने या पॉवर कट होने से आपका पीसी हार्ड डिस्क पर एरर्स क्रिएट कर सकता है/

इसके लिए अपने कंप्यूटर की हार्ड डिस्क को किसी प्रकार के एरर के लिए चेक करें/

डिस्क चेकिंग के लिए माय कंप्यूटर पर जाएं/

जिस डिस्क को आप चेक करना चाहते हैं, उस पर राइट क्लिक करें और फिर प्रॉपर्टीज पर क्लिक करें, प्रॉपर्टीज डायलॉग बॉक्स में टूल्स टैब पर क्लिक करें, एरर चेकिंग सेक्शन में चेक नाउ बटन प्रेस करें, कंप्यूटर पर एरर चेक करने के लिए चेक डिस्क को एक्सेस करें/

एरर्स की गिनती के अनुसार डिस्क चेकिंग में करीब एक घंटा लग सकता है/

डिस्क चेकिंग हफ्ते में एक बार की जा सकती है/

जिस से आप का कंप्यूटर हमेशा चका-चक रहेगा,

| | Comments: (0)
आप के बच्चो के लिए एक मज़ेदार सॉफ्टवेर
५ से १० साल तक के बच्चो के लिए एक अनोखी कलरिंग सॉफ्टवेर है ये

इसमें बहुत सरे चित्र दिए हुवे है जिन में रंग भरना है





वेबसाइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करे

| | Comments: (0)
आप के कंप्यूटर का वालपेपर अपने आप बदलेगा

इस सॉफ्टवेर के मदद से आप अपने कंप्यूटर का वालपेपर ऑटो चेंज पर कर सकते है ,यानि आप के कंप्यूटर का वालपेपर अपने आप बदलता रहेगा वालपेपर के बदलने के वक़्त को आप अपने अनुसार सेट कर सकते हैं


सॉफ्टवेर डाउनलोड लिंक .......

| | Comments: (0)

इन्टरनेट पर चैटिंग कर रहे इन्सान का लोकेशन जानिए

जैसा हर जगह कहा जाता है की चैटिंग में आईपी एड्ड्रेस नहीं पता किया जा सकता क्यूंकि सूचना कई सर्वर से हो के जाती है

बात तो ये सही है ,लेकिन फिर भी ट्रेसिंग संभव है और उसका तरीका है फाइल ट्रान्सफर

यदि आप चैटिंग करते हुए सामने वाले को किसी तरह से कोई फाइल भेजने या स्वीकार करने के लिए मना ले तो आप उसके आईपी एड्ड्रेस को ट्रेश कर के उसका लोकेसन जन सकते है

चुकी फाइल ट्रान्सफर के समय दोनों कंप्यूटर में सीधा संपर्क होता है,इसलिए उस समय आप उसके आईपी एड्ड्रेस को ट्रेश कर सकते हैं

फाइल चाहे कोई फोटो हो, कोई टेक्स्ट फाइल हो या कुछ भी , बस ध्यान रखें कि फाइल ट्रान्सफर के समय ही आप ऐसा कर सकते हैं

तो आईये देखे की इस काम को कईसे किया जा सकता है फाइल ट्रान्सफर के समय कमांड प्रोम्प्ट में टाइप करें " netstat " अब जो सूचि आप को दिखे गी वो कुछ इस प्रकार कि होगी...........

Proto Local Address Foreign Address State

TCP kick:1244 msgr-ns39.msgr.yahoomail.com:1985 ESTABLISHED

TCP kick:1257 msgr-sb46.msgr.yahoomail.com:1985 ESTABLISHED

यहाँ yahoomail आने का अर्थ है कि मैंने याहू मेसेंजर का प्रयोग किया था , यदि आप gtalk, या किसी और मेसेंजेर का प्रयोग करेंगे तो उसका विवरण होगा अब इस लिस्ट कि पहली लाइन आपके चैटिंग अप्लिकेशन का होस्ट सर्वर है और दूसरी लाइन आपके द्वारा प्रयोग किये जा रहे रूम को दर्शाता है इसी लिस्ट में और नीचे जाने पर आपको कुछ इस प्रकार की लाइन मिलेगी :"host82-7-106-237.ppp.***.****.com" या “256..65.72.8”अब आपको इस सूचि से प्राप्त संख्या को आईपी खोजने वाली किसी भी साईट पर डालना है और सामने बैठे इन्सान की लोकेशन आपके सामने होगी लेकिन याद रखियेगा ये काम सिर्फ डाटा ट्रांसफर के वक़्त ही किया जा सकता है

| | Comments: (0)
एक क्लिक में जानिए अपने विंडो का प्रोडक्ट " KEY "

सिर्फ 1 क्लिक में आप इस छोटे से सॉफ्टवेर की मदद से अपने विंडो के प्रोडक्ट " KEY " को जान सकते हैं इस्तेमाल में आसन और साइज़ में छोटा सिर्फ 385 Kb का है ये सॉफ्टवेर


ये सॉफ्टवेर सिर्फ XP के लिए है

| | Comments: (1)

Fire Fox ब्राउसर में गलती से बंद हुवे Tab को दुबारा खोलने का आसान तरीका

Fire Fox ब्राउसर में काम करते हुवे अगर गलती से कोई Tab बंद हो जाये तो उसको फिर से खोला जा सकता है

उसको खोलने का एक तरीका तो ये है की आप ब्राउसर के के हिस्ट्री में जा के उसको री-ओपन कर ले

लेकिन एक और तरीका है जिस के इस्तेमाल करने से आप का बहुत सारा कीमती वक़्त बर्बाद होने से बच सकता है और गलती से बंद हुवा Tab दुबारा खुल सकता है

इसके लिए आप को ज़यादा मेहनत नहीं करना है बस अपने की बोर्ड में एक साथ दबाये " Ctrl + Shift + T "और देखिये आप का बंद हुवा Tab फिर से खुल जायेगा

है ना मज़ेदार....

| | Comments: (0)
मोबाइल पर अब नहीं करनी पड़ेगी टाइपिंग


जिन लोगों को टच स्क्रीन फोन के वच्यरुल की-बोर्ड पर टाइपिंग करने में दिक्कत होती है उनके लिए अच्छी खबर है। अमेरिका के विशेषज्ञों ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया है जो टच स्क्रीन पर उंगली से लिखे शब्द को पहचान लेगा।1990 के दशक में अधिकांश मोबाइल फोनों पर अंग्रेजी का शब्द ‘हेलो’ लिखने के लिए बटनों को 13 बार दबाना पड़ता था।


यानि कि 44-33-555-555-666। लेकिन सिएटल के विशेषज्ञ क्लिफ कुशलेर और उनके एक साथी ने इस समस्या को दूर करने के लिए टी9 नाम का साफ्टवेयर बनाया जो केवल तीन बार बटन दबाने पर हेलो शब्द को अपने आप पहचान लेता है।कुशलेर का मानना है कि टच स्क्रीन पर टाइपिंग की समस्या का भी उनके पास समाधान है। उन्होंने अपने एक साथी वैज्ञानिक रैंडी मार्सडेन के साथ मिलकर एक नया सॉफ्टवेयर विकसित किया है जिसका नाम स्वाइप है।


जब आप टचस्क्रीन के की-बोर्ड पर अपनी उंगली से कोई शब्द लिखते हैं तो स्वाइप इस शब्द को पहचानने के लिए यह देखता है कि आपकी उंगली कहां रुकी और किस तरफ मुड़ी।जरूरी नहीं है कि आपकी उंगली का मूवमेंट एकदम सटीक हो, क्योंकि यह साफ्टवेयर इस बात का अनुमान लगा लेता है कि उपयोगकर्ता किस शब्द को लिखने जा रहा है।


कैपिटल लेटर या डबल लेटर लिखने के लिए आपको उंगली को थोड़ा रोककर संकेत देना होगा। वहीं स्पेसिंग या पंक्चुएशन को यह सॉफ्टवेयर खुद लगा लेगा। अमेरिका में स्वाइप का इस्तेमाल सात स्मार्टफोन्स में किया जा रहा है। कुशलेर का कहना है कि साल के अंत तक विश्वभर में 50 से अधिक मॉडलों में यह सॉफ्टवेयर आ जाएगा।

| | Comments: (0)
यूएसबी से हो सकती है डाटा की चोरी


आपके कंप्यूटर के यूएसबी पोर्ट पर नकली ड्राइव लगाकर कोई डाटा चोरी कर सकता है। यहां तक कि ऐसे ड्राइव की मदद से हार्डवेयर ट्रोजन वायरस भी डाले जा सकते हैं, जो कंप्यूटर को मिनटों में क्रैश कर सकता है।
किंग्सटन स्थित रॉयल मिलिटरी कॉलेज के कंप्यूटर इंजीनियरों ने पहली बार इसका पता लगाया है। उनका कहना है कि ऐसा कोई नकली ड्राइव लगाए जाने पर भी कंप्यूटर उसे पहचान नहीं पाएगा, क्योंकि यूएसबी प्रोटोकॉल में इसके लिए कोई तरीका ही नहीं सुझाया गया है।
उन्होंने कहा कि इसी तरह से यूएसबी संचालित माउस या की-बोर्ड के मेक और मॉडल का पता लगाकर नकली डिवाइस बनाई जा सकती है।

| | Comments: (0)
1 रु. प्रतिदिन से भी कम में कंप्यूटर की सुरक्षा

ये कोई विज्ञापन नहीं बस एक सलाह है । हम सभी को वायरस और अन्य कंप्यूटर को नुक्सान पहुचाने वाले प्रोग्राम्स का सामना तो करना पड़ता ही है वैसे मुफ्त एंटी वायरस तो है पर सच्चाई है की वो पूरी सुरक्षा नहीं देते वो अपनी सुविधाओं को सीमित ही रखते हैं ताकि उनके पूरे संस्करण की बिक्री हो सके ।

और ये संस्करण होते भी काफी महंगे है भारतीय रुपयों में 1000 के लगभग. ये कीमती तो होते ही है कुछ एंटी वायरस तो इतने भारी होते है की कंप्यूटर की अधिकतर कार्यक्षमता का प्रयोग ये ही कर लेते है ।


पर बाज़ार में अभी सस्ते एंटी वायरस भी उपलब्ध है जैसे नेट प्रोटेक्टर जो सिर्फ 350 रु में एक वर्ष के लिए है ये भारतीय एंटी वायरस है और बहुत से विदेशी प्रोग्राम्स से बेहतर है ।और भारतीय कम्प्यूटिंग वातावरण के अनुसार बहुत प्रभावशाली है । ये आपको अपने शहर में आसानी से उपलब्ध हो जायेगा ।


अगर इसकी गणना करें तो प्रतिदिन 1 रु से भी कम का खर्च है ।कम शब्दों में कहूँ तो ये वर्तमान में भारत में उपलब्ध सबसे अच्छे एंटी वायरस में से एक है और अगर आप कोई अच्छा एंटी वायरस अपने कंप्यूटर में लगाना चाहते है तो ये एक बेहतर विकल्प है ।वैसे आप अपनी इच्छा या जरुरत के अनुसार प्रोग्राम्स का चुनाव करें तो बेहतर ।

| | Comments: (0)
अपने पेन ड्राइव को वायरस से सुरक्षित करें




अपने कंप्यूटर पर तो एक अच्छा एंटी वायरस लगाकर सुरक्षित रह सकते है पर जब भी आप अपना पेन ड्राइव किसी अन्य कंप्यूटर में लगाते हैं तो उसमे से वायरस और अपय्वेयर आपके पेन ड्राइव में Autorun.inf फाइल के रूप में आ ही जाते हैं ।इस समस्या से निपटने के लिए एक औजार जो आपके पेन ड्राइव को इन फिल्स से सुरक्षित कर देगा ।उपयोग में आसान बस अपने पेन ड्राइव को कंप्यूटर में लगाइए और ये प्रोग्राम शुरू कर Vaccinate USB बटन पर क्लिक कर दें ।अब आपका पेन ड्राइव सुरक्षित है ।इस टूल का प्रयोग करने से पहले सुनिश्चित कर लें की जिस कंप्यूटर से आप अपने पेन ड्राइव को सुरक्षित करें वो वायरस से मुक्त हो । सिर्फ 804 केबी आकार का छोटा मुफ्त औजार ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

| | Comments: (0)
दो वेबसाइट्स/ब्लॉग की तुलना करें कौन ज्यादा तेज है


एक ऑनलाइन सेवा जिससे आप जांच सकते हैं की दोनों में से कौन सी वेबसाइट्स/ब्लॉग ज्यादा तेजी से लोड होती है ।इसमें आप अपने दो ब्लोग्स की तुलना कर सकते है की कौन ज्यादा समय लेता है खुलने में ।बस इस वेबसाइट पर आपको दो वेबसाइट्स या ब्लॉग के पते भरने है और GO बटन पर क्लिक करने है ।आप मेरे ब्लॉग का सुझाव न दीजियेगा क्यूंकि मैंने जांच लिया है और अब पता है की शायद टेम्पलेट बदलने का समय आ ही गया है ।

इस वेबसाइट पर जाने यहाँ क्लिक करें ।

| | Comments: (1)
अपने विंडोज एक्सपी को दें Mac OS X Leopard का रूप


अपने विंडोज एक्सपी को बदलिए Mac OS X Leopard के आकर्षक रूप में ।फोल्डर को अलग रंग देने, ऊपरी टास्कबार, आकर्षक प्रोग्राम लांचर और पारदर्शी टास्कबार जैसी सुविधाएँ ।एक ट्रांस्फोर्मेशन पैक जो आपके एक्सपी को ज्यादा सुन्दर और उपयोगी बनाता है ।40 एमबी आकार का मुफ्त औजार ।


इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

| | Comments: (0)
बहुपयोगी सिस्टम टूल


एक बहुपयोगी सिस्टम टूल जो आपके कंप्यूटर की छुपी सुविधाओ को प्रयोग करने और इसके विकल्पों को प्रयोग कर अपने कंप्यूटर को और बेहतर बनाने में सहायक होगा ।

इसके कुछ उपयोग हैं

System Audit - आपके कंप्यूटर की diagnostic information और technical जानकारियाँ।

Startup Manager - आपके कंप्यूटर के शुरू होने पर चलने वाले प्रोग्राम्स को व्यवस्थित करने के लिए

Backup & Recovery - System Restore और Backup की सुविधा ।

Windows Application Menu - इसमें आप 100 से ज्यादा प्रोग्राम्स के शोर्टकट पायेंगे ।

Program Manager - आपके कंप्यूटर पर इन्स्टाल प्रोग्राम्स की जानकारियां किसी प्रोग्राम की सूचना बदलने या उसे अन इन्स्टाल करने की सुविधा ।

Disks & Drives - आपके कंप्यूटर के ड्राइव की विस्तृत जानकारी और check disks & defragment जैसी सुविधाएँ ।

और भी बहुत कुछ इस एक मुफ्त 3.55 एमबी के टूल में ।

ध्यान रखें इस औजार को प्रयोग करने के लिए आपके कंप्यूटर में .NET Framework 3.5 या इससे अधिक इंस्टाल होना चाहिए ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

दूसरी डाउनलोड लिंक यहाँ है ।

| | Comments: (0)
एंटी वायरस हटाने का औजार


ये आम समस्या है की आप किसी एंटी वायरस या एंटी स्पायवेयर को काटकर नया या अन्य एंटी वायरस प्रोग्राम अपने कंप्यूटर पर इन्स्टाल करना चाहते हैं पर आपका पुराना एंटी वायरस अन इंस्टाल ही नहीं होता इससे निपटने के लिए एक उपयोगी औजार है ये ।इससे आप


Eset NOD32
Avira AntiVir Avira AntiVir
Norton Antivirus Norton Antivirus
AVG Antivirus AVG Antivirus
F-Secure AntiVirus F-Secure AntiVirus
McAfee Antivirus McAfee Antivirus
Kaspersky Antivirus Kaspersky Antivirus
Panda Antivirus Panda Antivirus
SUPERAntiSpyware SUPERAntiSpyware
Trend Micro Software Trend Micro Software


(इन प्रोग्राम्स की पूरी सूची देखने यहाँ क्लिक करें )इन सभी तरह के एंटी वायरस/एंटी स्पायवेयर प्रोग्राम्स को हटा सकते हैं ।एक उपयोगी मुफ्त औजार सिर्फ 4.8 एमबी आकार में और पोर्टेबल भी तो इंस्टाल करने की भी जरुरत नहीं ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

दूसरी डाउनलोड लिंक यहाँ है ।

| | Comments: (0)
विशेष भारतीयों के लिए नया इंटरनेट ब्राउजर


एक नया तेज इंटरनेट ब्राउजर जो भारतीय जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाया गया है भारतीय थीम और वालपेपर्स भारतीय भाषाओँ में टाइप करने की सुविधा तेज इंटरनेट ब्राउजिंग और डाउनलोडिंग ।


ये फ़ायरफ़ॉक्स पर आधारित इंटरनेट ब्राउजर है जिसमे है facebook, yahoo messanger, gmail, orkut, twitter, google indic translitration, citibank, cricinfo जैसे 1500 से भी ज्यादा साइडबार प्रोग्राम्स


।Built in Antivirus, Malicious Website warnings, Anti-Phishing Protection जैसी सबसे बेहतर


सुरक्षा ।One-Click Private Data Deletion, One-Click Private Browsing, No Browsing Reports और पहला ब्राउजर जो Flash cookie deletion (built in) सुविधा के साथ है ।


साथ ही इसमें है Latest Film Songs. Live Cricket Scores. News from a Dozen+ Leading Sources. Regional and Hindi Language News. Live TV. Stock Quotes. Events. Videos. Daily Joke जैसी सुविधाएँ ।


इतना सबकुछ सिर्फ 10 एमबी आकार के मुफ्त सॉफ्टवेयर में ।


मेरी सलाह है इसे एक बार तो आजमा के देख ही लीजिये ।


इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

दूसरी डाउनलोड लिंक यहाँ है ।

| | Comments: (0)
अपने माउस कर्सर में लगाइए कार्टून


अपने माउस कर्सर को बनाइये मजेदार उसमें कार्टून जोड़कर ।जब आपका इसका प्रयोग करेंगे तो ये टास्क बार में भी एक आइकन के रूप में रहेगा इस पर क्लिक करके आप कार्टून चित्रों को बदल भी सकते हैं ।एक छोटा मुफ्त 987 केबी का मजेदार औजार ।

इसे डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें ।

दूसरी सीधी डाउनलोड लिंक यहाँ है ।

| | Comments: (0)
विंडोज 7 इंस्टाल करें पेन ड्राइव से

एक छोटा और आसान टूल जिससे आप अपने पेन ड्राइव से भी अपने कंप्यूटर पर विंडोज 7 इंस्टाल कर पायेंगे ।ये विशेषकर नए छोटे आईडिया पैड लैपटॉप जिनमे सीडी ड्राइव नहीं होती है उनमे और अगर आपके कंप्यूटर में डीवीडी ड्राइव न हो या काम नहीं
कर रही हो तो नया विंडोज सेवन इंस्टाल करने में बेहद उपयोगी है ।अब किसी ऐसे कंप्यूटर में जिसमे डीवीडी ड्राइव लगी हो इस टूल को डाउनलोड कर इंस्टाल करें ।अब विंडोज सेवन की डीवीडी ड्राइव में लगायें और वो पेन ड्राइव भी जिसमे आप विंडोज 7 रखना चाहते हैं (ध्यान रखें की पेन ड्राइव 4 जीबी या इससे ज्यादा क्षमता की हो क्यूंकि विंडोज 7 की फाइल्स 2 जीबी से अधिक ही होती हैं ) फिर इस टूल को शुरू करेंऊपर दिए चित्र के अनुसार Select Files बटन पर क्लिक करें ।अब अपने डीवीडी ड्राइव जिसमे विंडोज सेवन की डीवीडी लगी है उसे चुन लें ।


कुछ इस तरह से आपके कंप्यूटर पर ड्राइव का नाम अलग हो सकता है।
अब आपसे वो पेन ड्राइव चुनने पूछा जायेगा

इस तरह से इसमें अपनी ड्राइव चुन लें अब Next बटन पर क्लिक करें ।आपके कंप्यूटर और विंडोज 7 वर्जन के अनुसार प्रक्रिया थोड़ी अलग हो सकती है पर आम तौर पर जैसा ऊपर बताया गया है उसी तरह होगी ।आपका बूटेबल विंडोज 7 पेन ड्राइव में तैयार है अब आप कंप्यूटर को यूएसबी ड्राइव से बूट करके विंडोज सेवन इंस्टाल कर सकते हैं ।ध्यान रखें इस टूल के उपयोग के लिए आपके कंप्यूटर में Microsoft .NET Framework 4 इंस्टाल होना चाहिए ।इस मुफ्त औजार का आकार है सिर्फ 89 केबी ।
| | Comments: (0)
एक और सिस्टम क्लीनर


एक और सिस्टम साफ़ रखने का औजार जो आपके कंप्यूटर के लिए अनुपयोगी फाइल्स को फाइल्स को हटाकर आपके कंप्यूटर को ज्यादा सुरक्षित और तेज बनाये रखता है ।एक बहुउपयोगी टूल जो आपके लिए प्रोग्राम अन इंस्टाल करता है, स्टार्ट अप् प्रोग्राम्स को व्यवस्थित करता है और आपके रैम को भी बेहतर करता है ।एक मुफ्त और उपयोगी आसान औजार सिर्फ 1.1 एमबी आकार में ।


इसे डाउनलोड करें यहाँ क्लिक करें ।

| | Comments: (1)
वेबसाइट सुरक्षित है या नहीं जाँचिये ऑनलाइन



एक ऑनलाइन सेवा जो आपको किसी वेबसाइट के बारे में जानकारी देती है की वो वायरस और मालवेयर से सुरक्षित है या नहीं ।
एक वेबसाइट जहाँ आप किसी भी वेबसाइट का पता टाइप कर जान सकते हैं वो आपके कंप्यूटर को नुक्सान तो नहीं पहुंचाएगा । मैंने कुछ साइट्स जाँची है जो मुझे पहले से पता था की खतरनाक है और इसके नतीजे सही मिलें है । आप भी अपनी रोजाना प्रयोग की जाने वाली साइट्स और ब्लॉग के पते स्कैन कर लें । इस वेबसाइट पर जाने यहाँ क्लिक करें